'मैं तुम्हारा गला काट दूंगा', 2007 टी20 वर्ल्ड कप में फ्लिंटॉफ की इस बात से गुस्स होकर युवराज ने लगाए थे 6 छक्के - Businessvistar.com

Header Ads

Breaking News

'मैं तुम्हारा गला काट दूंगा', 2007 टी20 वर्ल्ड कप में फ्लिंटॉफ की इस बात से गुस्स होकर युवराज ने लगाए थे 6 छक्के

'I will cut your throat', in the 2007 T20 World Cup Yuvraj singh Angry on Flintoff hit 6 sixes Image Source : GETTY IMAGES

भारतीय पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह को हम सिक्सर किंग के नाम से भी जानते हैं। युवराज सिंह ने टी20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टूअर्ट ब्रॉड की 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाकर रिकॉर्ड बनाया था। इस मैच में गलती तो एंड्र्यू फ्लिंटॉफ की थी, लेकिन सजा ब्रॉड को भुगतनी पड़ी। ब्रॉड के ओवर से पहले फ्लिंटॉफ और युवराज सिंह के बीच कुछ बहस हुई थी जिससे युवराज सिंह काफी नराज हो गए थे और गुस्से का सही इस्तेमाल करते हुए उन्होंने 6 छक्के जड़ दिए थे।

अब युवराज सिंह ने बताया है कि एंड्र्यू फ्लिंटॉफ और उनके बीच ब्रॉड के ओवर से पहले क्या बात हुई थी। इसका खुलासा उन्होंने इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन के साथ लाइव चैट में किया है। 

युवराज ने इस किस्से को याद करते हुए पीटरसन को बताया "मुझे याद है फ्रेडी ने दो अच्छी गेंदें डाली थी और उसने मुझे एक यॉर्कर भी डाली थी जिसपर मैं बाउंड्री लगाने में सफल रहा। तब उसने कहा ये हड़बड़ाहट में खेला हुआ शॉट है। तब वह मेरे से ज्यादा बोलने लगा। उसने मुझे कहा कि वो मेरा गला काट देगा तब मैंने उसे जवाब दिया तुम्हें मेरे हाथ में ये बैट देखा है? तुम्हें पता है मैं इस बैट से तुम्हें कहां मारूंगा? मुझे याद है जब मैंने ब्रॉडी को 6 छक्के लगाए तो मैं कितना गुस्से में था। मैंने इसके बाद दिमित्री मस्कारेन्हास और फिर फ्रेडी को देखे।"

ये भी पढ़ें - यूनुस खान ने दी सलाह, पांच साल बाद करें विराट कोहली से बाबर आजम की तुलना

युवराज ने आगे बताया "मस्कारेन्हास ने वनडे मैच में मुझे 5 छक्के लगाए थे इस वजह से मैंने पहले उसे देखा। ये उन मैच में से एक है जो हम सभी को याद है।"

इस चैट के दौरान युवी ने संन्यास के बाद अपने प्लान के बारे में बताया। युवी ने कहा कि वह कमेंटेटर नहीं बल्कि कोचिंग पर ध्यान देना चाहते हैं। युवी ने कहा  "मैं कोचिंग पर कमेंट्री से ज्यादा ध्यान देना चाहता हूँ। मेरे पास लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट का काफी अच्छा ख़ासा अनुभव है। मैं युवाओं को परिस्थिति के अनुसार मानसिक तौर पर सलाह दे सकता हूँ। गेम के हर फेस को कैसे हैंडल करना है ये भी बता सकता हूँ। पहले मैं बतौर मेंटर शुरुआत करूँगा उसके बाद कोचिंग की तरफ रूख करूंगा। मेरे पास 16-17 क्रिकेट अकादमी है जिन पर मैंने पिछले 10 सालों से काम करना शुरू कर दिया था। मैं बिना कमेंट्री के काफी सेट हूँ।“



from India TV: sports Feed

No comments