Economic Reforms और Stimulus Package पर GoM की मीटिंग, बनेगी रणनीति - Businessvistar.com

Header Ads

Breaking News

Economic Reforms और Stimulus Package पर GoM की मीटिंग, बनेगी रणनीति

नई दिल्ली। दुनिया के पांचवें सबसे बड़े कोरोना राहत पैकेज ( Corona Stimulus Package ) के ऐलान के बाद अब केंद्र सरकार ( Central Govt ) इसे जरुरतमंद लोगों तक पहुंचाने के लिए रणनीति तय करने में जुट गए हैं। इसके लिए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ( Group of Ministers ) बैठक आज शाम पांच बजे होने जा रही है। जीओएम ( GoM ) की यह दूसरी बैठक है, जिसकी अध्यक्षता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ( Defense Minister Rajnath Singh ) करेंगे। इस बैठक में गृहमंत्री अमित शाह ( Home Minister Amit Shah ), वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Finance Minister Nirmala Sitharaman ), विदेश मंत्री एस जयशंकर ( External Affairs Minister S. Jaishankar ), रेल और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ( Railway and Commerce Minister Piyush Goyal ), नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पूरी ( Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri ) और वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ( Minister of State for Finance Anurag Thakur ) शामिल होंगे। इससे पहले जीओएम की बैठक सोमवार को हुई थी।

यह भी पढ़ेंः- Anil Ambani के लिए खड़ी हुई नई मुसीबत, 21 दिन में चुकाने हैं 5 हजार करोड़ रुपए

महापैकेज पर महामंथन
20 लाख करोड़ रुपए के महापैकेज पर आज महामंथन होगा। देश वित्त मंत्री ने इस पैकेज के आर्थिक सुधारों को लेकर भी बात की थी, साथ ही कई राहतों का भी ऐलान हुआ था। उन सब की समीक्षा की जाएगी। साथ इस बात पर भी चर्चा की जाएगी कि आखिर इस घोषणाओं और योजनाओं को देश की आम जनता तक कैसे पहुंचाया जाए। आपको बता दें कि केंद्र सरकार विपक्षी पार्टियों के निशाने पर है। कांग्रेस और बाकी पार्टियों का कहना है कि घोषणाएं आम जनता तक पहुंचाने में सरकार नाकाम साबित हुई है। मजदूर अभी पलायन कर रहे हैं। एमएसएमई अभी भी आर्थिक संकट के दौर से गुजर रही हैं।

यह भी पढ़ेंः- Gold And Silver Price: दो महीने में 3000 रुपए तक सस्ता हो सकता है Gold, क्या है बड़ी वजह

निवेश बढ़ाने पर दिया जोर
इंग्लिश न्यूज चैनल को दिए एक इंटरव्यू में देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज और आत्मनिर्भर भारत पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि राहत पैकेज से देश में डिमांड में तेजी आएगी और कारोबार में मजबूती देखने को मिलगी। वित्त मंत्री ने सीधा रुपया देने के सवाल पर जवाब दिया कि सरकार की ओर से काफी सोचकर इस तरह का पैकेज बनाया है। उन्हें सीधा रुपया देने में भी ऐतराज नहीं है, लेकिन सरकार की ओर से ऐसा रास्ता चुना है, जिससे इकोसिस्टम में सुधार होगा और निवेश भी बढ़ेगा। वित्त मंत्री ने साफ कर दिया कि वो नहीं चाहते हैं कि देश की कंपनियां सस्ते में बिक जाएं।

यह भी पढ़ेंः- बदल गया देश के सबसे बड़े Bank का Time Table, अब इतने बजे खुलेगा SBI

पैकेज और रिफॉर्म्स से बढ़ेगी डिमांड
वित्त मंत्री के अनुसार आम जनता तक रुपया पहुंचा और डिमांड भी बढ़ेगी। सरकार जिस रास्ते पर चल रही है उससे डिमांड भी इजाफा होगा। एमएसएमई के खुलने से मांग में इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक्सपर्ट से बात कर पैकेज का ऐलान किया है। कोरोना वायरस के कारण ग्लोबल इकोनॉमी को बड़ा झटका लगा है। कोरोना के कारण अनिश्चितता बढऩे से नुकसान का असेसमेंट करना मुश्किल है। लॉकडाउन के बाद ही इस पर पूरा डिटेल एसेसमेंट किया जाएगा।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/36mGG80

No comments